जीवन चिठ्ठा

साइना नेहवाल की जीवनी – Saina Nehwal Biography

0
saina-nehwal-biography

साइना नेहवाल का जीवन परिचय – Saina Nehwal Biography

आज आपको साइना नेहवाल की जीवनी (Saina Nehwal Biography in Hindi) का परिचय देंगे, जिसमे मुख्यतः साइना नेहवाल का जन्म, उनका परिवार, उनकी पढ़ाई, उनकी शादी, उनका करियर तथा साइना नेहवाल के बारे में जानकारी देंगे | बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने अपने अनोखे खेल प्रदर्शन का जादू न सिर्फ भारत में बल्कि पूरे विश्व में चलाया है |

और अपनी अद्भुत खेल प्रतिभा से भारत का नाम दुनिया भर में गौरान्वित किया है।साइना नेहवाल भारत की सर्वश्रेष्ठ बैडमिंटन खिलाड़ी हैं, उनकी गिनती दुनिया की शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ियों में होती है। वे काफी लंबे समय तक दुनिया की नंबर 1 बैडमिंटन खिलाड़ी रहने का गौरव भी प्राप्त है। और तो और भारत में बैडमिंटन खेल में बढ़ती प्रसिद्धि का क्रेडिट भी साइना नेहवाल को ही दिया जाता है

साइना नेहवाल का बायोडाटा – Saina Nehwal Biodata 

  • नाम (Name) –  साइना नेहवाल
  • पिता का नाम (Father Name) –  हरवीर सिंह
  • माता का नाम (Mother Name)  – उषा रानी
  • पति (Husband Name) –  परुपल्ली कश्यप
  • पेशा (Occupation) –  बैडमिंटन खिलाड़ी
  • कोच / संरक्षक (Coach)  – पुल्लेला गोपीचंद
  • राष्ट्रीय पुरुस्कार (Awards) –  पद्मश्री, राजीव गाँधी खेलरत्न अवार्ड

साइना नेहवाल का परिवार – Saina Nehwal Family

विश्व की बेस्ट बैडमिंटन खिलाड़ियों में से एक साइना भारत के हरियाणा राज्य के हिसार में रहने वाले एक जाट परिवार में जन्मीं हैं। उनके पिता हरवीर सिंह, हरियाणा की एक एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में काम करते हैं, जबकि उनकी माता उषा रानी, भी साइना की तरह की एक बैडमिंटन खिलाड़ी थी, वे स्टेट लेवल पर बैडमिंटन खेला करती थीं।साइना के पिता भी बैडमिंटन के स्टेट लेवल के बेहतरीन खिलाड़ी रह चुके हैं। इसलिए यह कहा जा सकता है कि साइना को बैडमिंटन खेल की अद्भुत प्रतिभा उनके माता-पिता से विरासत में मिली है।

साइना नेहवाल की पढ़ाई – Saina Nehwal Education

नेहवाल ने अपनी स्कूल की पढ़ाई की शुरुआत हरियाणा के हिसार के एक स्कूल से की थी, लेकिन उनके पिता का हैदराबाद ट्रांसफर हो जाने की वजह से उनके पूरे परिवार को हैदराबाद शिफ्ट होना पड़ा था। इसके बाद साइना ने अपनी 10 वीं की पढ़ाई फॉर्म सेंट ऐनी कॉलेज मेहदीपत्तनम, हैदराबाद से पास की है।साइना एक पढ़ने वाली छात्रा भी थी इसके साथ ही वे खेल गतिविधियों में भी अपने स्कूल में काफी एक्टिव रहती थीं।

उन्होंने स्कूल में पढ़ाई करने के दौरान कराटे भी सीखे थे, उन्हें इसमें ब्राउन बेल्ट भी मिला हुआ है।साइना नेहवाल बेहद कम उम्र से ही बैडमिंटन खेलने में दिलचस्पी लेने लगी थीं, उनके पिता भी हमेशा से ही साइना को दुनिया के एक सर्वश्रेष्ठ बैडमिंटन प्लेयर बनाना चाहते थे, इसलिए उनके पिता साइना को स्कूल जाने से पहले रोजाना सुबह 4 बजे उठाकर उन्हें घंटों बैडमिंटन की प्रैक्टिस करवाने के लिए ले जाते थे।

साइना नेहवाल की शादी – Saina Nehwal Marriage 

भारतीय बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल, 14 दिसंबर साल 2018 को मशहूर बैडमिंटन खिलाड़ी परुपल्ली कश्यप के साथ शादी के बंधन में बंधी हैं। शादी से पहले दोनों बेहद अच्छे दोस्त थे और फिर धीरे-धीरे उनकी दोस्ती,प्यार में बदल गई और दोनों से शादी करने का फैसला लिया।

साइना नेहवाल का करियर – Saina Nehwal Career

साइना ने एसएम आरिफ के उचित मार्गदर्शन के अंतर्गत अपना बैडमिंटन प्रशिक्षण शुरू किया, जो द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता थे। वह वर्तमान में इंडोनेशियन के बैडमिंटन लीजेंड अतीक जौहरी उनके कोच हैं इसके साथ ऑल इंग्लैंड चैंपियन और नेशनल कोच पुलेला गोपीचंद उनके सलाहकार हैं। बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल ने जब से अपने बैडमिंटन खेल में करियर की शुरुआत की है, तब से अपनी अद्भुत खेल प्रतिभा से लोगों के दिल में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही हैं, और कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

साइना नेहवाल ने हैदराबाद में पुलेला गोपीचंद अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त किया। एक बैडमिंटन खिलाड़ी के रूप में अपने प्रारंभिक वर्षों से ही इन्होंने हमेशा अपने आप में बहुत सारी क्षमताएं दिखायीं। एक राष्ट्रीय जूनियर चैंपियन होने के नाते, इन्होंने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों प्रमुख टूर्नामेंटों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। इन्होंने स्पष्ट रूप से अपनी खुद की एक छाप छोड़ी है।

वर्ष 2003 में जो जूनियर चेक ओपन हुआ, वह उनके करियर की शुरुआत थी, जिस टूर्नामेंट में उन्होंने जीत हांसिल की। 2004 के कॉमनवेल्थ यूथ गेम में उन्होंने दूसरा स्थान प्राप्त किया। साइना नेहवाल एक बार 2005 में और उसके बाद 2006 में फिर से एशियाई सैटेलाइट बैडमिंटन टूर्नामेंट दो बार जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन गईं।

2006 में, साइना नेहवाल एक सुपर-सीरीज टूर्नामेंट, फिलीपींस ओपन जीतने वाली प्रथम भारतीय महिला बनीं। 2008 में, वह वर्ड जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाले प्रथम भारतीय बनीं। उन्होंने 2008 के चीनी ताइपे ओपन ग्रां प्री गोल्ड और भारतीय राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप और कॉमनवेल्थ यूथ गेम्स खेलों को भी उसी वर्ष जीता। 2008 में उन्हें सबसे होनहार खिलाड़ी के रूप में घोषित किया गया था।

2009 में, वह दुनिया की सबसे प्रमुख बैडमिंटन सीरीज – इंडोनेशिया ओपन जीतने वाली प्रथम भारतीय बन गईं। वह विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में भी पहुंची। साइना नेहवाल को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और अगस्त 2009 में उनके कोच गोपीचंद को भी द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

जनवरी 2010 में, साइना नेहवाल को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उसी वर्ष इन्होंने इंडिया ओपन ग्रां प्री गोल्ड, सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज, इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज और हांगकांग सुपर सीरीज भी जीती। 29 अगस्त 2010 को, साइना को सर्वोच्च राष्ट्रीय खेल पुरस्कार –  राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया था।

2010 राष्ट्रमंडल खेलों के आठ ब्रांड एंबेसडरों में से एक, साइना ने भारतीय बैडमिंटन के इतिहास में एक महान यादगार पल बनाने के लिए स्वर्ण पदक जीता।

2011 में, उन्होंने स्विट्जरलैंड स्विस ओपन ग्रां प्री गोल्ड जीता और मलेशिया ओपन ग्रां प्री गोल्ड, इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर और बीडब्ल्यूएफ सुपर सीरीज मास्टर्स फाइनल में दूसरा स्थान प्राप्त किया।

2012 में, साइना ने स्विस ओपन ग्रां प्री गोल्ड, थाईलैंड ओपन ग्रां प्री गोल्ड जीता और इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर को पुनः प्राप्त कर लिया, जिससे वह अपना तीसरा इंडोनेशियाई ओपन खिताब जीत गईं।

2012 लंदन ओलंपिक में, साइना नेहवाल ने कांस्य पदक जीता और बैडमिंटन में ओलंपिक पदक जीतने वाली प्रथम भारतीय बनीं। साइना की विशाल उपलब्धि के लिए हरियाणा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश की राज्य सरकारों ने इन्हें बड़ी रकम में नकद पुरस्कार प्रदान किए और खेल मंत्री ने साइना को आईएएस अधिकारी के पद के बराबर नौकरी देने का वादा किया। ओलंपिक में उनकी सफलता ने निश्चित रूप से भारत में आगे बढ़कर खेलने के लिए नए दरवाजे खोल दिए हैं।

साइना नेहवाल को मिला सम्मान – Saina Nehwal Awards

  • साल 2016 में साइना नेहवाल को भारत के सर्वोच्च सम्मान में से एक पदम भूषण सम्मान से पुरस्कृत किया गया।
  • साल 2009-2010 में खेल जगत का सबड़े बड़ा और प्रतिष्ठित पुरस्कार ”राजीव गांधी खेल रत्न” पुरस्कार से नवाजा गया।
  • साल 2010 में भारत के प्रतिष्ठित पुरस्कार पदम श्री से नवाजा गया।
  • साल 2009 में साइना नेहवाल को अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।
  • साल 2008 में साइना नेहवाल को बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन द्धारा साल की सबसे बेहतरीन और प्रतिभावान खिलाड़ी का दर्जा दिया गया।

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *