Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
jiohind.com

सियाचिन ग्लेशियर से जुड़े भारतीय सेना के 10 तथ्य जो आपको गर्वित करेंगे

Siachen-facts-indian-soldier

हम इस बात का बिलकुल अंदाजा नहीं लगा सकते की जो भारतीय सैनिक सियाचिन (जो की दुनिया में सबसे ऊंचाई पर स्थित युद्ध क्षेत्र है) में तैनात होते है उन्हें किन परिस्थियों से गुज़र ना पड़ता है। इतने भयानक बर्फीले मौसम के बाद भी, अपने देश की सेवा के लिए सैनिकों का जुनून हमेशा बरकरार रहता है। उन्हें 7600 मीटर लंबे ग्लेशियर क्षेत्र में 5400 मीटर की ऊंचाई पर सक्रिय रहने और पाकिस्तानी सेना के साथ दो दो हाथ करने के लिए कई चुनौतीयो का सामना करना पड़ता है।

हमारे देश के ये सैनिक सुपरहीरो से कम नहीं हैं, क्योंकि वे न केवल अपनी शारीरिक शक्ति को बनाए रखते हैं बल्कि उन्हें अपनी मानसिक और आध्यात्मिक सीमा को भी बनाए रखने की आवश्यकता होती है, और वे इसे बखूबी निभाते हैं। यही कारण है कि उन्हें देशभक्त भारतीय सैनिक कहा जाता है ।

आइये जानते है कुछ अमेजिंग फैक्ट्स उन सुपर हीरोज़ के बारे में जो सियाचिन ग्लेशियर में तैनात हैं :

  1. सियाचिन भारत और पाकिस्तान के बीच लड़े गए तीनों युद्धों में से दो युद्धों का कारण रहा है। यह शत्रुता के लिहाज से भारत और दुश्मन देश के बीच जद्दोजहद का केंद्र बना हुआ है।
  2. सियाचिन में तैनात सैनिकों को माइनस 60 डिग्री तापमान और 10% ऑक्सीजन में जीवित रहना पड़ता है। लेकिन, ये प्रतिकूल परिस्थितियां सैनिकों और उनकी महत्वाकांक्षा को प्रभावित नहीं करती हैं।
  3. सियाचिन का मौसम पर्वतारोहियों को चोटी पर चढ़ने के लिए आकर्षित करता है, लेकिन सैनिकों के मामले में यह सच नहीं है क्योंकि उन्हें सियाचिन की चोटी पर चढ़ना ही पड़ता है, फिर चाहे मौसम अच्छा हो या खराब |
  4. जब सैनिक इतनी अधिक ऊँचाई पर रहते हैं, तो शारीरिक समस्याएं जैसे – वजन कम होना, याददाश्त कम होना, नींद न आना जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएं उनके लिए एक आम समस्या बन जाती है।
  5. सियाचिन में सैनिक हमेशा फ्रॉस्टबिट के डर के साथ रहते हैं, ऐसी स्थिति जिसमें अगर आपकी त्वचा किसी स्टील (सैनिकों के लिए, यह बंदूक की बैरल है) लगभग 15 सेकंड या उससे अधिक समय तक छूती है, तो स्टील त्वचा से जुड़ जाती है और इसके परिणामस्वरूप त्वचा के tissues डैमेज हो जाते है। कभी-कभी, शरीर अंग गिर ही जाते है।
  6. हम भारतीय फ़ूड लवर्स हैं लेकिन भारतीय सैनिकों के लिए सियाचिन ग्लेशियर में ताजा भोजन नहीं मिल पाता है, उदाहरण के लिए, यदि सेब को थोड़ी देर के लिए रख दो, तो वह एक कठोर उत्पाद में बदल जाता है। कई जगह तो पैकेट वाला खाना भी नहीं पहुँच पाता है। उन परिस्थियों में हमारे सैनिक 2 से 3 दिन तक भूखे ही रहते हैं।
  7. इतनी ऊँचाई पर सीमाओं की रक्षा करने वाले सैनिकों के लिए बर्फ़ीला तूफ़ान एक बड़ी समस्या है। यदि कोई बर्फबारी 2-3 सप्ताह तक जारी रहती है, तो यह सेना के सैनिकों के लिए घातक स्थित बन जाती है।
  8. बिना किसी डर के भारतीय सैनिक 3 दर्जन से अधिक फीट की बर्फबारी में भी मजबूत रहते हैं, जो किसी भी इंसान को आसानी से निगलने के लिए पर्याप्त है।
  9. अगर रिकॉर्ड्स को देखा जाए तो पिछले 30 सालों में 846 सैनिकों ने अपनी जान गंवाई है। सैनिकों की वीरता और साहस को सलाम करने के लिए, भारतीय सेना ने हर सैनिक का इलाज करने का फैसला किया है जो प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण सियाचिन में मर जाता है और ठंडी जलवायु को युद्ध हताहत यानि battle casualties माना जाएगा।
  10. सियाचिन के युद्ध के मैदान पर अब तक कई लोगों के नाम दर्ज हैं। साथ ही, नुब्रा नदी पर एक युद्ध स्मारक स्थापित किया गया है और देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी भारतीय सैनिकों के नाम उस स्मारक पर लिखे गए हैं।
  11. जिओ हिन्द की टीम सलाम करती है उन सैनिकों को जो देश की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों को समर्पित करने के लिए सैनिक हमेशा तैयार रहते हैं। दुनिया के सर्वोच्च युद्ध के मैदान में और विपरीत परिस्थितियों में राष्ट्र की सेवा करना सबसे मुश्किल काम है लेकिन हमारे सैनिक इसे पूरे उत्साह और जोश के साथ करते हैं।

Add comment

Must Get It ..