Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
jiohind.com

जयपुर को UNESCO ने घोषित किया वर्ल्ड हेरिटेज – Jaipur Gets UNESCO World Heritage Tag

Jaipur-Pink-City

गुलाबी नगर जयपुर को मिला यूनेस्को विश्व धरोहर का दर्जा – Pink City Jaipur Gets UNESCO World Heritage Tag

भारत के सबसे खूबसूरत शहरों में शुमार गुलाबी नगरी जयपुर को यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरीटेज सिटी घोषित कर दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर के मौके पर लोगों को बधाई दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘जयपुर बहादुरी और संस्कृति की विरासत सहेजे एक शहर है. जयपुर का भव्य और उत्साह के साथ आतिथ्य सभी लोगों को आकर्षित करता है. मुझे खुशी है कि जयपुर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल के रूप में चिन्हित किया है.’

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘यह बड़े गर्व की बात है कि हमारे गुलाबी शहर जयपुर को यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरीटेज सिटी घोषित किया है. इससे राजस्थान की राजधानी जयपुर का गौरव बढ़ेगा.’ उन्होंने कहा कि जयपुर को वर्ल्ड हेरीटेज साइट घोषित किया जाना सिर्फ गर्व का ही विषय नहीं है, बल्कि इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और स्थानीय अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी. साथ ही बुनियादी ढांचे में सुधार होगा.

पुराने शहर जयपुर की खूबसूरती को निहारने के लिए हर साल दुनियाभर से लाखों की संख्या में टूरिस्ट आते हैं. यहां आने वालों की रिकमेंडेशन पर ही यूनेस्को ने जयपुर को वर्ल्ड हेरीटेज सिटी घोषित किया है. वर्ल्ड हेरिटेज सिटी बनने के बाद यहां टूरिस्टों की संख्या बढ़ेगी. साथ ही ऐतिहासिक इमारतों के संरक्षण को और बेहतर किया जा सकेगा. केंद्र सरकार ने पहले ही जयपुर को स्मार्ट सिटी घोषित कर चुकी है. इसके लिए काम भी जारी है.

जयपुर शहर एक सुनियोजित विकास की मिसाल है, जो परकोटे की चारदीवारी से घिरी हुई है और इसमें 7 दरवाजे हैं. जयपुर बसने से पहले कछवाहों की राजधानी आमेर हुआ करती थी. मगर साल 1727 में पूर्व महाराज जयसिंह ने जयपुर का निर्माण शुरू करवाया. यह शहर अलग-अलग काल खंडों में बनकर तैयार हुआ.

जयपुर के पूर्व राजघराने के ठीक सामने पुराने शहर में गोविंद देव जी का मंदिर है. जयपुर के बारे में कहा जाता है कि नगर नियोजन यहां परंपरा रही है. यही वजह है कि राज्य के राजे-रजवाड़े के समय भी परकोटे के अंदर की सड़कों की चौड़ाई 107 मीटर थी, तो बाजार के बरामदे की चौड़ाई 92 मीटर हुआ करती थी.

साल 1896 में जब प्रिंस ऑफ वेल्स जयपुर आ रहे थे तो उनके स्वागत में जयपुर के पूर्व महाराज ने पूरे शहर को गुलाबी रंग से रंगवा दिया था, तब से इस शहर की पहचान गुलाबी नगरी के रूप में होती है. यहां के प्रमुख स्मारकों में आमेर, नाहरगढ़, जयगढ़ जल महल, हवा महल, जंतर मंतर सिटी पैलेस और अल्बर्ट हॉल शामिल हैं.

यहां के प्रमुख बाजारों में जोहरी बाजार, किशनपोल बाजार, बड़ी चौपड़, छोटी चौपड़ और चांदपोल शामिल हैं. बदलते वक्त के साथ जयपुर शहर का स्वरूप भी बदला है और इस साल नवंबर तक ओल्ड सिटी में मेट्रो भी शुरू हो जाएगी.

Add comment

Must Get It ..